सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

सर्वशक्तिमान परमेश्वर का धन्यवाद और यशगान

I

लाए गए हैं हम परमेश्वर के सामने, खाते-पीते हैं हम वचन उनका।

करते हैं प्रबुद्ध हमें पवित्र आत्मा,

समझते हैं सत्य हम जो बोलते हैं परमेश्वर।

कर दिए हैं हमने दर-किनार, धर्म की रस्में और बंधन सारे।

नियमों से बंधनरहित, आज़ाद हैं दिल हमारे।

और परमेश्वर के प्रकाश में रहकर,

जितना हो सके ख़ुश हैं हम, जितना हो सके ख़ुश हैं हम।

सर्वशक्तिमान परमेश्वर का धन्यवाद और यशगान,

जो व्यक्त करते हैं सत्य सारी इंसानियत के लिये।

सर्वशक्तिमान परमेश्वर का धन्यवाद और यशगान,

मार्ग है पास हमारे ख़ुद को बदलने के लिये,

ख़त्म होती है अज्ञात आस्था हमारी।

करें हम यशगान, यशगान।

II

करें अनुसरण परमेश्वर का करीब से हम,

करें तालीम राज्य की स्वीकार हम।

न्याय परमेश्वर का है तलवार की तरह,

करता है उजागर ख़्याल हमारे।

अज्ञानता, ख़ुदग़र्ज़ी, और झूठ छुप नहीं पाते।

तभी सिर्फ़ देखता हूँ सत्य अपना,

शर्मिंदा हो झुकता परमेश्वर के सामने, परमेश्वर के सामने।

सर्वशक्तिमान परमेश्वर का धन्यवाद और यशगान,

जो व्यक्त करते हैं सत्य सारी इंसानियत के लिये।

सर्वशक्तिमान परमेश्वर का धन्यवाद और यशगान,

परमेश्वर से रूबरू हैं हम,

उसकी ख़ुशी में आनंद मनाते हैं हम।

सर्वशक्तिमान परमेश्वर का धन्यवाद और यशगान,

पवित्र हो तुम, हो धार्मिक तुम,

मेरी ख़्वाहिश है, सत्य पर अमल करूँ,

लेने फिर से जन्म, देह को त्याग दूँ,

दिल को तुम्हारे सुकून दूँ।

सर्वशक्तिमान परमेश्वर का धन्यवाद और यशगान,

न्याय ने तुम्हारे सचमुच बचा लिया मुझको।

सर्वशक्तिमान परमेश्वर का धन्यवाद और यशगान,

बदल गया है स्वभाव मेरा।

तुम्हारे कारण मैं धन्य हुई, मैं धन्य हुई।

"मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना" से

पिछला:धन्य हैं वे सचमुच जिन्हें परमेश्वर से प्रेम है

अगला:अखण्ड हृदय से परमेश्वर का गुणगान करो

शायद आपको पसंद आये

परमेश्वर सम्पूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियन्ता है बुलाए हुए बहुत हैं, परन्तु चुने हुए कुछ ही हैं केवल परमेश्वर के प्रबंधन के मध्य ही मनुष्य बचाया जा सकता है प्रश्न 24: तुम यह प्रमाण देते हो कि प्रभु यीशु पहले से ही सर्वशक्तिमान परमेश्वर के रूप में वापस आ चुका है, कि वह पूरी सच्चाई को अभिव्यक्त करता है जिससे कि लोग शुद्धिकरण प्राप्त कर सकें और बचाए जा सकें, और वर्तमान में वह परमेश्वर के घर से शुरू होने वाले न्याय के कार्य को कर रहा है, लेकिन हम इसे स्वीकार करने की हिम्मत नहीं करते। यह इसलिए है क्योंकि धार्मिक पादरियों और प्राचीन लोगों का हमें बहुधा यह निर्देश है कि परमेश्वर के सभी वचन और कार्य बाइबल में अभिलेखित हैं और बाइबल के बाहर परमेश्वर का कोई और वचन या कार्य नहीं हो सकता है, और यह कि बाइबल के विरुद्ध या उससे परे जाने वाली हर बात विधर्म है। हम इस समस्या को समझ नहीं सकते हैं, तो तुम कृपया इसे हमें समझा दो।