सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

115 अंतिम परिणाम जिसे हासिल करना परमेश्वर के कार्य का लक्ष्य है

I

उसके इतने सारे कार्यों में,

सच्चे तजुर्बे वाले हर किसी को, अनुभव होता श्रद्धा और भय का,

जो है प्रशंसा से बढ़कर।

लोगों ने देखा है अनुशासन व न्याय के कार्य में परमेश्वर का स्वभाव,

तभी तो है उनके दिलों में आदर।

परमेश्वर है आज्ञापालन और श्रद्धा योग्य,

क्योंकि उसकी सत्ता व स्वभाव है जीवों से हटकर,

है जीवों से बहुत ऊपर।

इंसान नहीं केवल परमेश्वर है श्रद्धा और समर्पण के योग्य।

II

उसके कार्य का अनुभव है जिन्हें, उसका ज्ञान है जिन्हें,

उसके प्रति श्रद्धा है उनमें।

परमेश्वर के विरुद्ध है जिनकी धारणा,

जो नहीं मानते उसको परमेश्वर, या नहीं रखते श्रद्धा उसपर,

जीते नहीं गए हैं, हालांकि करते हैं उसका अनुसरण।

स्वभाव से हैं वे अवज्ञाकारी।

III

बनाने वाले का आदर करें सभी निर्मित जीव,

कर सकें सभी परमेश्वर की आराधना

और पूरे दिल से उसकी प्रभुता को हों समर्पित,

परमेश्वर का कार्य करना चाहता है इसे ही हासिल।

उसकी हस्ती, उसका स्वभाव, जीवों से अलग है, ऊपर है।

श्रद्धा और समर्पण के काबिल, केवल परमेश्वर है।

और अंत में इसे ही हासिल करेगा काम उसका।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:इंसान का शोधन बेहद सार्थक है परमेश्वर के द्वारा

अगला:परमेश्वर की ताड़ना और न्याय प्रेम हैं ये जान लो

सम्बंधित मीडिया

वचन देह में प्रकट होता है अंत के दिनों के मसीह के कथन (संकलन) मेमने ने पुस्तक को खोला न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है सर्वशक्तिमान परमेश्वर, अंतिम दिनों के मसीह, के उत्कृष्ट वचन राज्य के सुसमाचार पर सर्वशक्तिमान परमेश्वर के उत्कृष्ट वचन -संकलन मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ राज्य के सुसमाचार पर उत्कृष्ट प्रश्न और उत्तर (संकलन) परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) विजेताओं की गवाहियाँ मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप