सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

सत्य को स्वीकारने वाले ही परमेश्वर की वाणी सुन सकते हैं

I

जहाँ परमेश्वर का प्रकटन है,

वहाँ सत्य की अभिव्यक्ति है, परमेश्वर की वाणी है।

वही सुन सकते हैं परमेश्वर की वाणी,

वही देख सकते हैं प्रकटन परमेश्वर का, सत्य को जो करते हैं स्वीकार।

नामुमकिन जैसे विचार कर दो दरकिनार।

नामुमकिन जैसे विचारों का मुमकिन होना सम्भव है।

स्वर्ग से ऊँची है परमेश्वर की बुद्धि की उड़ान।

उसके ख़्याल और काम बहुत परे हैं, इंसान के सारे ख़्यालों से।

कोई चीज़ होती है नामुमकिन जितनी,

होता उतना ही ज़्यादा सत्य वहाँ खोज के लिये।

होता जितना परे इंसान की संकल्पना से,

होता है उतना ही समावेश परमेश्वर के सत्य का उसमें।

प्रकट कहीं भी हो वो, परमेश्वर फिर भी परमेश्वर है।

कहाँ हुआ वो प्रकट, उसका सार नहीं बदलता इससे।

दरकिनार करो अपनी धारणाएँ,

ख़ामोश करो दिल को अपने, और पढ़ो इन वचनों को।

गर सत्य की तड़प होगी तुम में, तो ज़ाहिर कर देगा

परमेश्वर अपनी इच्छा और वचन तुम पर,

इच्छा और वचन तुम पर, इच्छा और वचन तुम पर।

II

वही रहता है स्वभाव परमेश्वर का।

जहाँ भी हैं कदम उसके, वहीं है वो मानवता का परमेश्वर।

यीशु परमेश्वर है इस्राएलियों का, एशिया का, यूरोप का, सारे जहाँ का।

परमेश्वर की इच्छा खोजो उसके कथन से,

ढूँढो उसका प्रकटन, अनुसरण करो उसके पदचिन्हों का।

सत्य है, मार्ग है, जीवन है परमेश्वर।

उसके वचन और प्रकटन उसका, रहते हैं साथ-साथ।

स्वभाव और पदचिन्ह उसका, कर दिए जाते हैं इंसानों पर ज़ाहिर सदा।

भाइयो-बहनो, उम्मीद है देख सकते हो,

तुम इन वचनों में प्रकटन परमेश्वर का।

करो अनुसरण उसका एक नए युग में,

नए स्वर्ग में, नई धरती की ओर, किया गया तैयार जिसे,

उन सब की ख़ातिर, परमेश्वर का इंतज़ार है जिनको, इंतज़ार है जिनको।

दरकिनार करो अपनी धारणाएँ,

ख़ामोश करो दिल को अपने, और पढ़ो इन वचनों को।

गर सत्य की तड़प होगी तुम में, तो ज़ाहिर कर देगा

परमेश्वर अपनी इच्छा और वचन तुम पर,

इच्छा और वचन तुम पर, इच्छा और वचन तुम पर।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:प्रकट हुए परमेश्वर जग के पूरब में महिमा लेकर

अगला:देह में प्रकट हुआ परमेश्वर का अधिकार और सामर्थ्य

शायद आपको पसंद आये

केवल परमेश्वर के प्रबंधन के मध्य ही मनुष्य बचाया जा सकता है बुलाए हुए बहुत हैं, परन्तु चुने हुए कुछ ही हैं परमेश्वर सम्पूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियन्ता है प्रश्न 26: बाइबल ईसाई धर्म का अधिनियम है और जो लोग प्रभु में विश्वास करते हैं, उन्होंने दो हजार वर्षों से बाइबल के अनुसार ऐसा विश्वास किया हैं। इसके अलावा, धार्मिक दुनिया में अधिकांश लोग मानते हैं कि बाइबल प्रभु का प्रतिनिधित्व करती है, कि प्रभु में विश्वास बाइबल में विश्वास है, और बाइबल में विश्वास प्रभु में विश्वास है, और यदि कोई बाइबल से भटक जाता है तो उसे विश्वासी नहीं कहा जा सकता। कृपया बताओ, क्या मैं पूछ सकता हूँ कि इस तरीके से प्रभु पर विश्वास करना प्रभु की इच्छा के अनुरूप है या नहीं?