सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

परमेश्वर के लिए गवाही देना मानव का कर्तव्य है

परमेश्वर तुम लोगों को जीवन देता है;

ये एक उपहार है जिसे तुम उससे प्राप्त करते हो।

और इसलिए तुम्हारा कर्तव्य है कि तुम उसके लिए गवाही दो।

परमेश्वर देता है उसकी महिमा, उसका जीवन जो इस्राएलियों के पास नहीं था।

और इसलिए तुमको अपना जीवन और यौवन, उसे समर्पित करना चाहिए।

तुम्हें परमेश्वर की, महिमा मिल गई है,

इसलिए तुम्हें परमेश्वर का साक्ष्य देना है।

यही विहित है।

ये तुम्हारा सौभाग्य है, तुम्हें परमेश्वर की महिमा दी गयी है।

और इसलिए उसकी महिमा की गवाही देना तुम्हारा कर्तव्य है।

यदि तुम परमेश्वर में मानते हो, सिर्फ़ आशीर्वाद पाने के लिए,

उसका काम सार्थक नहीं होगा,

और तुम अपने कर्तव्य को पूरा नहीं करोगे, पूरा नहीं करोगे।

तुम्हें परमेश्वर की, महिमा मिल गई है,

इसलिए तुम्हें परमेश्वर का साक्ष्य देना है।

यही विहित है, यही विहित है।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:क्या तुम हो अपने लक्ष्य के प्रति आगाह

अगला:परमेश्वर की ताड़ना और न्याय है मनुष्य की मुक्ति का प्रकाश

शायद आपको पसंद आये

  • देहधारी परमेश्वर को किसने जाना है

    I चूँकि हो तुम एक नागरिक परमेश्वर के घराने के, चूँकि हो तुम निष्ठावान परमेश्वर के राज्य में, फिर जो कुछ भी तुम करते हो उसे जरूर खरा उतरना चाहिए परमेश्…

  • परमेश्वर इंसान के सच्चे विश्वास की आशा करता है

    I इंसान के लिए परमेश्वर के हमेशा रहते हैं सख्त मानक। अगर तुम्हारी वफ़ादारी है सशर्त, उसे चाहिए नहीं तुम्हारा तथाकथित विश्वास। परमेश्वर को है नफ़रत …

  • स्वयं परमेश्वर की पहचान और पदवी

    I हर चीज़ पर जो राज करे वो परमेश्वर है, हर चीज़ का जो संचालन करे वो परमेश्वर है। हर चीज़ बनाई उसने, हर चीज़ का वो संचालन करता है। हर चीज़ पर वो राज करता…

  • प्रभु यीशु का अनुकरण करो

    I पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को, क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की, इसमें न उसका स्वार्थ था, न योजन…