सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

सच्ची प्रार्थना

I

सच्ची दुआ अपने दिल की बातों को परमेश्वर के सामने कहना है,

यह परमेश्वर की मर्ज़ी और उसके वचन पर आधारित है।

सच्ची दुआ परमेश्वर को अपने करीब महसूस करना है,

जैसे वो ख़ुद तेरे सामने हो।

सच्ची प्रार्थना का मतलब तुझे परमेश्वर से बहुत कुछ कहना है,

तेरा दिल सूरज के समान उज्ज्वल है,

तू परमेश्वर की सुंदरता से प्रेरित होता है,

जो सुनते हैं वो संतुष्ट होते हैं।

सच्ची प्रार्थना शांति और आनंद दोनों लाएगी,

इससे परमेश्वर से प्रेम करने की सामर्थ बढ़ती है,

परमेश्वर से प्रेम करने की कीमत महसूस होती है;

और यह सब सिद्ध करेगा कि तुम्हारी प्रार्थना सच्ची है।

II

सच्ची दुआ औपचारिकता नहीं है,

प्रक्रिया नहीं है और न ही वचन को महज़ पढ़ना है।

सच्ची दुआ का मतलब दूसरों का अनुसरण करना नहीं है।

अपने दिल की कहो और परमेश्वर के द्वारा स्पर्श किये जाओ।

अपनी प्रार्थना को प्रभावी करने के लिए,

तुम्हें परमेश्वर का वचन पढ़ना ही चाहिये।

और केवल परमेश्वर के वचन के मध्य प्रार्थना करने

से ही रोशनी देखी जायेगी।

III

सच्ची प्रार्थना उस दिल से प्रदर्शित होती है

जिसमें तड़प हो ईश्वर की इच्छा जानने की,

और उसे पूरा करने

की और जो नफरत करे उन सबसे जिसे परमेश्वर पसंद ना करे।

इस के आधार पर तेरे पास ज्ञान होगा,

वह सभी सच जो ईश्वर कहता है वह तुझे स्पष्ट होगा।

प्रार्थना के बाद पाना मजबूत विश्वास

और अभ्यास का एक तरीका।

बस यही है सच्ची प्रार्थना

हाँ, बस यही है सच्ची प्रार्थना।

बस यही है सच्ची प्रार्थना।

हाँ, बस यही है सच्ची प्रार्थना।

सच्ची प्रार्थना शांति और आनंद दोनों लाएगी,

इससे परमेश्वर से प्रेम करने की सामर्थ बढ़ती है,

परमेश्वर से प्रेम करने की कीमत महसूस होती है;

और यह सब सिद्ध करेगा कि तुम्हारी प्रार्थना सच्ची है।

तुम्हारी प्रार्थना सच्ची है।

तुम्हारी प्रार्थना सच्ची है।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:परमेश्वर पर भरोसे का सच्चा अर्थ

अगला:प्रार्थना का महत्व

शायद आपको पसंद आये

परमेश्वर सम्पूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियन्ता है केवल परमेश्वर के प्रबंधन के मध्य ही मनुष्य बचाया जा सकता है प्रश्न 24: तुम यह प्रमाण देते हो कि प्रभु यीशु पहले से ही सर्वशक्तिमान परमेश्वर के रूप में वापस आ चुका है, कि वह पूरी सच्चाई को अभिव्यक्त करता है जिससे कि लोग शुद्धिकरण प्राप्त कर सकें और बचाए जा सकें, और वर्तमान में वह परमेश्वर के घर से शुरू होने वाले न्याय के कार्य को कर रहा है, लेकिन हम इसे स्वीकार करने की हिम्मत नहीं करते। यह इसलिए है क्योंकि धार्मिक पादरियों और प्राचीन लोगों का हमें बहुधा यह निर्देश है कि परमेश्वर के सभी वचन और कार्य बाइबल में अभिलेखित हैं और बाइबल के बाहर परमेश्वर का कोई और वचन या कार्य नहीं हो सकता है, और यह कि बाइबल के विरुद्ध या उससे परे जाने वाली हर बात विधर्म है। हम इस समस्या को समझ नहीं सकते हैं, तो तुम कृपया इसे हमें समझा दो। बुलाए हुए बहुत हैं, परन्तु चुने हुए कुछ ही हैं