सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

कौन परमेश्वर के अनुकूल है

I

परमेश्वर ने अनगिनत वचन व्यक्त किये हैं,

और अपनी इच्छा और स्वभाव भी जताया,

फिर भी लोग नाकाबिल हैं उसे जानने के,

उसमें विश्वास करने और उसका पालन करने में।

तुम सब बस सोचते हो पुरस्कारों और आशीषों के बारे में

न ही परमेश्वर के अनुकूल होने के बारे में,

न ही उसके विरुद्ध न होने के बारे में।

परमेश्वर तुमसे बहुत निराश है,

उसने तुम लोगों को कितना कुछ दिया है,

लेकिन कितना कम तुमसे पाया है।

जो जीते हैं बाइबल में या क्रूस पर,

जो जीते हैं व्यवस्था या सिद्धांतों के बीच,

या आज परमेश्वर जो करता कार्य उसके बीच,

उनमें से कौन है जो परमेश्वर के अनुकूल है?

II

तुम लोगों का घमंड, लालच,

बड़ी अभिलाषाएं, धोखा और अनाज्ञाकारिता,

इनमें से परमेश्वर की निगाहों से क्या बच पायेगा?

तुम सब उसे शर्मिंदा करते, उसके साथ चाल चलते हो,

उससे ज़बरदस्ती वसूलते, और बलिदान के लिए बल प्रयोग करते हो,

ये सब उसके दंड से कैसे बच पायेगा, कभी सोचते हो?

तुम्हारे कुकर्म हैं सबूत कि परमेश्वर के खिलाफ हो तुम लोग

और उसके अनुकूल नहीं हो तुम।

जो जीते हैं बाइबल में या क्रूस पर,

जो जीते हैं व्यवस्था या सिद्धांतों के बीच,

या आज परमेश्वर जो करता कार्य उसके बीच,

उनमें से कौन है जो परमेश्वर के अनुकूल है?

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:इंसान वो नहीं रहा जैसा परमेश्वर चाहता है

अगला:कैसे शासन करता है हर चीज़ पर परमेश्वर

शायद आपको पसंद आये

  • स्वयं परमेश्वर की पहचान और पदवी

    I हर चीज़ पर जो राज करे वो परमेश्वर है, हर चीज़ का जो संचालन करे वो परमेश्वर है। हर चीज़ बनाई उसने, हर चीज़ का वो संचालन करता है। हर चीज़ पर वो राज करता…

  • देहधारी परमेश्वर को किसने जाना है

    I चूँकि हो तुम एक नागरिक परमेश्वर के घराने के, चूँकि हो तुम निष्ठावान परमेश्वर के राज्य में, फिर जो कुछ भी तुम करते हो उसे जरूर खरा उतरना चाहिए परमेश्…

  • परमेश्वर स्वर्ग में है और धरती पर भी

    I परमेश्वर, परमेश्वर। परमेश्वर जब धरती पर होता है, तो इंसानों के दिल में वो व्यवहारिक होता है। स्वर्ग में वो सब जीवों का स्वामी होता है। नदियाँ लांघी…

  • पवित्र आत्मा के कार्य के सिद्धांत

    I पवित्र आत्मा इक-तरफा कार्य नहीं करता, इंसान नहीं कर सकता काम अकेले। पवित्र आत्मा इक-तरफा कार्य नहीं करता, इंसान नहीं कर सकता काम अकेले। इंसान काम…