सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

तुम सच्चा जीवन हो मेरा

I

पीला चेहरा, उलझे बाल लिए, अकेला और मायूस था मैं,

पास था तुम्हारे, फिर भी कितनी दूर, क्योंकि अजनबी थे हम।

गरिमा चमकती है, उदार मुखमंडल पर तुम्हारे।

सौम्य-सुंदर है हृदय तुम्हारा।

असीमता तुम्हारी शब्द बयाँ कर सकते नहीं।

कहानी पूरी तुम्हारे कर्मों की हर कोई बता सकता नहीं।

तुम सच्चा जीवन हो मेरा, केवल तुम हो मेरे।

मेरे ज़िंदा रहने का आधार हैं वचन तुम्हारे।

सत्य, मार्ग और जीवन हो तुम। कोई नहीं उद्धार केवल तुम हो।

तुम सच्चा जीवन हो मेरा। तुम सच्चा जीवन हो मेरा।

II

तुमने जीवन की साँसें दी हैं मुझको।

तुम्हारे वचनों ने अहसास कराया पूर्णता का मुझको।

हृदय उमड़ता है मेरा सच्चे आभार से।

बना दिया तुमने मुझको पूरा इंसान नया।

जो कुछ तुम्हारा है मुझको अनमोल है।

इसकी जगह नहीं ले सकता ख़ज़ाना कोई,

मुझसे इसे छु‌ड़वा सके न कोई पर्वत या दूरी।

ये मेरा न बदलने वाला लक्ष्य है।

III

ठिठुरती रात में ख़्याल आता है तुम्हारे प्यार का मुझे,

कितने स्नेह का एहसास होता है अपने दिल में मुझे।

जीवन-शक्ति से भरी है अब ज़िंदगी मेरी।

नए जीवन की अगवानी की है मैंने।

बरसों के सम्पर्क से

पता चला है तुम्हारी अनमोलता का मुझे, मुझे, मुझे।

एक भी चीज़ नहीं है संसार की बराबरी हो जिससे।

इंसान के केवल तुम्हीं हो, केवल तुम्हीं हो।

ये मेरा न बदलने वाला लक्ष्य है।

तुम सच्चा जीवन हो मेरा, केवल तुम हो मेरे।

मेरे ज़िंदा रहने का आधार हैं वचन तुम्हारे।

सत्य, मार्ग और जीवन हो तुम। कोई नहीं उद्धार केवल तुम हो।

तुम सच्चा जीवन हो मेरा। तुम सच्चा जीवन हो मेरा।

तुम सच्चा जीवन हो मेरा। तुम सच्चा जीवन हो मेरा।

"मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना" से

पिछला:हो जाओ इकट्ठे सिय्योन में

अगला:नए जीवन का यशगान करो

शायद आपको पसंद आये

प्रश्न 26: बाइबल ईसाई धर्म का अधिनियम है और जो लोग प्रभु में विश्वास करते हैं, उन्होंने दो हजार वर्षों से बाइबल के अनुसार ऐसा विश्वास किया हैं। इसके अलावा, धार्मिक दुनिया में अधिकांश लोग मानते हैं कि बाइबल प्रभु का प्रतिनिधित्व करती है, कि प्रभु में विश्वास बाइबल में विश्वास है, और बाइबल में विश्वास प्रभु में विश्वास है, और यदि कोई बाइबल से भटक जाता है तो उसे विश्वासी नहीं कहा जा सकता। कृपया बताओ, क्या मैं पूछ सकता हूँ कि इस तरीके से प्रभु पर विश्वास करना प्रभु की इच्छा के अनुरूप है या नहीं? केवल परमेश्वर के प्रबंधन के मध्य ही मनुष्य बचाया जा सकता है परमेश्वर सम्पूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियन्ता है बुलाए हुए बहुत हैं, परन्तु चुने हुए कुछ ही हैं