सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

सृजित जीव को होना चाहिये परमेश्वर की दया पर

I

कुछ भी चाहे परमेश्वर तुम से, तुम दे दो अपना सर्वस्व उसे।

कुछ भी चाहे परमेश्वर तुम से, तुम दे दो अपना सर्वस्व उसे।

अंत तक दिखाओ उसके प्रति निष्ठा अपनी।

अगर देखो सिंहासन पर हर्षित मुस्कान उसकी,

तो उसी दिन छोड़ दो जगत पीछे,

बंद करते वक्त अपनी आँखें सदा के लिये,

हँस सकते हो तुम आनंद से, आनंद से।

ओ सृजित जीव, क्या कर सकते हो तुम परमेश्वर के लिये?

ओ सृजित जीव,

क्या कर सकते हो तुम परमेश्वर के लिये, परमेश्वर के लिये?

छोड़ दो ख़ुद को दया पर उसकी, दया पर उसकी।

जब तक प्रसन्न है, संतुष्ट है परमेश्वर, करने दो उसे उसके मन की।

अंदर से कैसे शिकायत कर सके कोई?

II

जब तक हो धरती पर तुम, निभाओ आख़िरी फ़र्ज़ अपना पूरी शक्ति से,

परमेश्वर की ख़ातिर, और करो संतुष्ट उसे।

पतरस की तरह, जिसने चाहा परमेश्वर को प्राणांत तक,

चढ़ा दिया गया सूली पर परमेश्वर की ख़ातिर।

जो कुछ करते हो तुम उससे, करो संतुष्ट परमेश्वर को।

ओ सृजित जीव, क्या कर सकते हो तुम परमेश्वर के लिये?

ओ सृजित जीव, क्या कर सकते हो तुम परमेश्वर के लिये,

परमेश्वर के लिये, परमेश्वर के लिये, परमेश्वर के लिये?

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:इंसान को परमेश्वर के वचनों के अनुसार चलना चाहिये

अगला:राज्य गान (I) दुनिया में राज्य का अवतरण हुआ है

शायद आपको पसंद आये

परमेश्वर सम्पूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियन्ता है केवल परमेश्वर के प्रबंधन के मध्य ही मनुष्य बचाया जा सकता है प्रश्न 26: बाइबल ईसाई धर्म का अधिनियम है और जो लोग प्रभु में विश्वास करते हैं, उन्होंने दो हजार वर्षों से बाइबल के अनुसार ऐसा विश्वास किया हैं। इसके अलावा, धार्मिक दुनिया में अधिकांश लोग मानते हैं कि बाइबल प्रभु का प्रतिनिधित्व करती है, कि प्रभु में विश्वास बाइबल में विश्वास है, और बाइबल में विश्वास प्रभु में विश्वास है, और यदि कोई बाइबल से भटक जाता है तो उसे विश्वासी नहीं कहा जा सकता। कृपया बताओ, क्या मैं पूछ सकता हूँ कि इस तरीके से प्रभु पर विश्वास करना प्रभु की इच्छा के अनुरूप है या नहीं? बुलाए हुए बहुत हैं, परन्तु चुने हुए कुछ ही हैं