सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

जीवन को परमेश्वर के वचनों से भरो

I

आज से जब भी तुम सब बोलो, ईश्वर के वचनों के बारे में ही बोलो।

जब भी तुम सब एकजुट हो, सत्य की संगति होने दो,

बोलो जो भी जानते हो ईश्वर के वचन के बारे में,

कैसे तुम अभ्यास करते हो, कैसे पवित्र आत्मा काम करता है।

जब भी अवसर मिले, ईश्वर के वचन की बात करो।

इतनी व्यर्थ बातें न करो। ओ…

अपने जीवन को भरने दो ईश्वर के वचन से,

तब तुम एक सच्चे विश्वासी हो!

तब तुम एक सच्चे विश्वासी हो!

II

जब तुम करो सहभागिता, तब पवित्र आत्मा तुम्हें प्रबुद्ध करेगा।

ईश्वर के वचन का संसार बनाने मानव को सहयोग करना चाहिए।

यदि तुम इस में प्रवेश नहीं करते हो, ईश्वर कार्य नहीं कर सकता है।

यदि तुम बात न करो, वो तुम्हें प्रबुद्ध नहीं कर सकता।

जब भी अवसर मिले, ईश्वर के वचन की बात करो।

इतनी व्यर्थ बातें न करो। ओ…

अपने जीवन को भरने दो ईश्वर के वचन से,

तब तुम एक सच्चे विश्वासी हो!

तब तुम एक सच्चे विश्वासी हो!

III

यहां तक कि जब सहभागिता सतही हो,

वो ठीक होगा, ठीक ही होगा।

बिना सतही के, गहराई भी नहीं है।

प्रक्रिया का होना जरूरी है। ओ...

अपने अभ्यास से तुम, पवित्र आत्मा की तुम पर

की हुई रोशनी में अंतर्दृष्टि पाओगे,

जानोगे कैसे खाना-पीना है प्रभावी रूप से ईश्वर के वचनों को,

फिर उसके वचन की वास्तविकता में प्रवेश करोगे।

केवल सहयोग के इच्छा के साथ

तुम पवित्र आत्मा का कार्य पा सकोगे।

जब भी अवसर मिले, ईश्वर के वचन की बात करो।

इतनी व्यर्थ बातें न करो। ओ…

अपने जीवन को भरने दो ईश्वर के वचन से,

तब तुम एक सच्चे विश्वासी हो!

तब तुम एक सच्चे विश्वासी हो!

तब तुम एक सच्चे विश्वासी हो!

तब तुम एक सच्चे विश्वासी हो!

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:परमेश्वर की विजय के प्रतीक

अगला:अय्यूब और पतरस की तरह गवाह बनो

शायद आपको पसंद आये

परमेश्वर सम्पूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियन्ता है बुलाए हुए बहुत हैं, परन्तु चुने हुए कुछ ही हैं प्रश्न 26: बाइबल ईसाई धर्म का अधिनियम है और जो लोग प्रभु में विश्वास करते हैं, उन्होंने दो हजार वर्षों से बाइबल के अनुसार ऐसा विश्वास किया हैं। इसके अलावा, धार्मिक दुनिया में अधिकांश लोग मानते हैं कि बाइबल प्रभु का प्रतिनिधित्व करती है, कि प्रभु में विश्वास बाइबल में विश्वास है, और बाइबल में विश्वास प्रभु में विश्वास है, और यदि कोई बाइबल से भटक जाता है तो उसे विश्वासी नहीं कहा जा सकता। कृपया बताओ, क्या मैं पूछ सकता हूँ कि इस तरीके से प्रभु पर विश्वास करना प्रभु की इच्छा के अनुरूप है या नहीं? केवल परमेश्वर के प्रबंधन के मध्य ही मनुष्य बचाया जा सकता है