सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

139 परमेश्वर का प्रेम और सार है निस्वार्थ

परमेश्वर देता है अपना सर्वोत्तम पक्ष।

चीज़ें उत्तम, सर्वोत्तम चीज़ें देता है।

I

बिना बताये, दुखों को बिना दिखाए,

सहता है परमेश्वर प्रतीक्षा में ख़ामोशी से।

न असहाय न सुन्न, न यह चिन्ह कमज़ोरी का,

ईश्वर का सार और उसका प्रेम सदा ही निस्वार्थ है।

परमेश्वर देता है अपना सर्वोत्तम पक्ष।

चीज़ें उत्तम, सर्वोत्तम चीज़ें देता है।

मानवजाति के लिए वो सहता है, वो सहता है खामोशी से,

ख़ामोशी से वो दे सर्वोत्तम अपना।

II

बिना बताये, दुखों को बिना दिखाए,

सहता है परमेश्वर प्रतीक्षा में ख़ामोशी से।

यह एक अभिव्यक्ति है उसके सार की और स्वभाव की

वो सृष्टिकर्ता है, उसकी इस पहचान की।

परमेश्वर देता है अपना सर्वोत्तम पक्ष।

चीज़ें उत्तम, सर्वोत्तम चीज़ें देता है।

मानवजाति के लिए वो सहता है, वो सहता है खामोशी से,

ख़ामोशी से वो दे सर्वोत्तम अपना।

वो देता है सर्वोत्तम अपना।

III

परमेश्वर देता है अपना सर्वोत्तम पक्ष।

चीज़ें उत्तम, सर्वोत्तम चीज़ें देता है।

मानवजाति के लिए वो सहता है, वो सहता है खामोशी से,

देता ख़ामोशी से वो,

ख़ामोशी से वो सहता और देता है,

सर्वोत्तम अपना, सर्वोत्तम अपना!

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:देहधारी परमेश्वर को बेहद चिंता है अपने अनुयायियों की

अगला:सबसे असल है परमेश्वर का प्रेम

सम्बंधित मीडिया

वचन देह में प्रकट होता है अंत के दिनों के मसीह के कथन (संकलन) मेमने ने पुस्तक को खोला न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है सर्वशक्तिमान परमेश्वर, अंतिम दिनों के मसीह, के उत्कृष्ट वचन राज्य के सुसमाचार पर सर्वशक्तिमान परमेश्वर के उत्कृष्ट वचन -संकलन मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ राज्य के सुसमाचार पर उत्कृष्ट प्रश्न और उत्तर (संकलन) परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) विजेताओं की गवाहियाँ मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप