सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

परमेश्वर के लिए, इन्सान को पूर्ण करने का सर्वोत्तम उपाय शुद्धिकरण है

I

जितना बड़ा हो ईश्वर द्वारा शुद्धिकरण,

उतना ज़्यादा लोगों का दिल ईश्वर से प्यार करता है।

उनके दिलों का कष्ट उनके जीवन में फ़ायदा करता है।

वे ईश्वर के सामने शांति से रहेंगे और उसके क़रीब आ सकेंगे।

वे देख सकते हैं ईश्वर का महान प्यार और उसका सर्वोच्च उद्धार।

शुद्धिकरण है सर्वोत्तम ज़रिया मानव के लिए पूर्ण होने का।

केवल परीक्षण और शुद्धिकरण ईश्वर से लोगों को प्यार करवाता है।

II

पतरस गुज़रा शुद्धिकरण से।

ये सौ-सौ बार हुआ।

अय्यूब गुज़रा कई परीक्षण से

और तुम्हें भी शुद्ध होना चाहिए।

तुम्हें सैकड़ों परीक्षणों से गुज़रना होगा,

इस क़दम पर निर्भर होना होगा, ताकि तुम ईश्वर को संतुष्ट कर सको,

और ईश्वर तुम्हें पूर्ण करेगा।

शुद्धिकरण है सर्वोत्तम ज़रिया मानव के लिए पूर्ण होने का।

केवल परीक्षण और शुद्धिकरण ईश्वर से लोगों को प्यार करवाता है।

हाँ, ईश्वर से सच्चा प्यार।

III

एक निश्चित बिंदु तक शोधन के बाद,

तुम्हें दिखेंगी अपनी कमज़ोरियाँ और मुसीबतें।

तुम्हें दिखेंगी कमियाँ हैं कितनी तुम में,

और समस्याएँ जिन्हें तुम हरा नहीं सकते हो।

तुम अपनी अवज्ञा देखोगे।

परीक्षण सच्ची अवस्था दिखाएगा तुम्हारी।

परीक्षण तुम्हें पूर्ण बनने के लिए बेहतर क़ाबिल बनाएगा।

शुद्धिकरण है सर्वोत्तम ज़रिया मानव के लिए पूर्ण होने का।

केवल परीक्षण और शुद्धिकरण ईश्वर से लोगों को प्यार करवाता है।

IV

कठिनाइयों के बिन यदि हों लोग,

तो उनमें ईश्वर के प्रति सच्चे प्यार की कमी होगी।

यदि वे भीतर से जाँचें न गए हों, यदि वे शोधन के न अधीन हों,

तो बाहरी दुनिया में उनके दिल सदा

भटकते रहेंगे।

शुद्धिकरण है सर्वोत्तम ज़रिया मानव के लिए पूर्ण होने का।

केवल परीक्षण और शुद्धिकरण ईश्वर से लोगों को प्यार करवाता है।

हाँ, ईश्वर से सच्चा प्यार, ईश्वर से सच्चा प्यार।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:इंसान को संभालने का काम है शैतान को हराने का काम

अगला:परमेश्वर में आस्था की राह, है राह उससे प्यार करने की

शायद आपको पसंद आये

  • परमेश्वर स्वर्ग में है और धरती पर भी

    I परमेश्वर, परमेश्वर। परमेश्वर जब धरती पर होता है, तो इंसानों के दिल में वो व्यवहारिक होता है। स्वर्ग में वो सब जीवों का स्वामी होता है। नदियाँ लांघी…

  • स्वयं परमेश्वर की पहचान और पदवी

    I हर चीज़ पर जो राज करे वो परमेश्वर है, हर चीज़ का जो संचालन करे वो परमेश्वर है। हर चीज़ बनाई उसने, हर चीज़ का वो संचालन करता है। हर चीज़ पर वो राज करता…

  • पवित्र आत्मा के कार्य के सिद्धांत

    I पवित्र आत्मा इक-तरफा कार्य नहीं करता, इंसान नहीं कर सकता काम अकेले। पवित्र आत्मा इक-तरफा कार्य नहीं करता, इंसान नहीं कर सकता काम अकेले। इंसान काम…

  • देहधारी परमेश्वर को किसने जाना है

    I चूँकि हो तुम एक नागरिक परमेश्वर के घराने के, चूँकि हो तुम निष्ठावान परमेश्वर के राज्य में, फिर जो कुछ भी तुम करते हो उसे जरूर खरा उतरना चाहिए परमेश्…