सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

ईसाई जीवन: 4 सलाह, जो प्रभु की मंशा के अनुरूप दूसरों के साथ आपसी संवाद करने का तरीका सिखाते हैं

414

वांग ज़ीहान, शांक्सी प्रान्त

पारस्परिक संबंध एक ऐसा विषय है जो कई लोगों के सिर में दर्द पैदा कर देता है। यह एक ऐसा विषय भी है जिसका अक्सर ईसाई के रूप में एक व्यक्ति पूरे जीवन भर सामना करता है। प्रभु यीशु की अपेक्षा है कि हम एक-दूसरे के साथ सामंजस्य में मिलकर रहें और दूसरों से अपने समान प्यार करें। कई आस्थावान ईसाई भी प्रभु की शिक्षाओं को अभ्यास में लाने के इच्छुक हैं। हालांकि, हकीकत में, जब हम दूसरों के साथ बातचीत करते हैं, तो हम अक्सर संघर्ष और गलतफहमी का सामना करते हैं, वो भी इतना कि हमारे रिश्ते कठोर होकर टूट जाते हैं। इससे हर किसी को दर्द होता है। क्या कारण है कि हम एक-दूसरे के साथ सामंजस्यपूर्ण रूप से रहने में असमर्थ हैं? प्रभु की मंशा के अनुसार हम ईसाई अपने जीवन में दूसरों के साथ कैसे बातचीत कर सकते हैं? अतीत में मुझे जो कठिनाई हुई है, उसमें यह समस्या भी रही है। प्रभु के मार्गदर्शन के लिए उनका धन्यवाद! बाद में, मुझे एक पुस्तक में इस सवाल का जवाब मिला, जिसने मेरी कठिनाइयों का समाधान कर दिया। यहां, मैं अपने अनुभव और समझ के बारे में कुछ बताने जा रही हूँ!

1. आपको दूसरों के साथ उचित और समान व्यवहार करना चाहिए। आपको अपनी भावनाओं और वरीयताओं के आधार पर काम नहीं करना चाहिए।

यीशु ने कहा: "क्योंकि यदि तुम अपने प्रेम रखनेवालों ही से प्रेम रखो, तो तुम्हारे लिये क्या फल होगा? क्या महसूल लेनेवाले भी ऐसा ही नहीं करते? "यदि तुम केवल अपने भाइयों ही को नमस्कार करो, तो कौन सा बड़ा काम करते हो? क्या अन्यजाति भी ऐसा नहीं करते? इसलिये चाहिये कि तुम सिद्ध बनो, जैसा तुम्हारा स्वर्गीय पिता सिद्ध है" (मत्ती 5:46–48)। प्रभु के वचनों से, मैं समझ गयी कि परमेश्वर की अपेक्षा है कि ईसाई जन अपने जीवन में दूसरों के साथ परमेश्वर के वचनों के अनुसार व्यवहार करें। उन्हें अपनी भावनाओं और वरीयताओं के अनुसार ऐसा नहीं करना चाहिए। जब मैं इस बारे में सोचती हूँ कि दूसरों के साथ हम कैसे बातचीत करते हैं, तो मुझे एहसास होता है कि जब हम दूसरों से लाभ या सहायता प्राप्त करते हैं, तो हम उस दूसरे पक्ष के प्रति आनंदित और आभारी हो जाते हैं। हालांकि, जब अन्य लोग कुछ ऐसा कहते या करते है जो हमें नुकसान पहुंचाता है, तो हम इस दूसरे व्यक्ति से घृणा करने लग जाते हैं और उस पर ज़्यादा ध्यान नहीं देते हैं। जब हम किसी ऐसे व्यक्ति का सामना करते हैं जिसे हम पसंद करते हैं, तो हम उसके करीब आते हैं और उसे अपने पास खींच लेते हैं; जब हम किसी ऐसे व्यक्ति का सामना करते हैं जिसे हम पसंद नहीं करते हैं, तो हम उसे अस्वीकार कर देते हैं और उससे दूर चले जाते हैं। जिनके पास ऊँची हैसियत या अधिक शक्ति है, हम उनकी खूब प्रशंसा करते हैं और उनकी चाटुकारिता करते हैं। जिनके पास हैसियत या शक्ति नहीं है, हम उन्हें अस्वीकार करते हैं और उन्हें अपमानित करते हैं। कोई ऐसा जिसके लिए हमारी वरीयता होती है यदि वो हमारी कमियों को बताता है, तो हम इसे स्वीकार करने में सक्षम होते हैं। लेकिन जिसके लिए हमारी वरीयता नहीं होती, यदि वो कुछ ऐसा करता है, तो हम इसे स्वीकार नहीं करते हैं, हम इसका औचित्य सिद्ध करते हैं और कभी-कभी हम उनसे घृणा भी करते हैं, उसके साथ लड़ने लगते हैं और यहां तक कि उस पर हमला भी करते हैं। ये सभी किसी व्यक्ति द्वारा अपनी खुद की भावनाओं और प्राथमिकताओं का पालन करने और दूसरों के साथ समान रूप से व्यवहार न करने के उदाहरण हैं। यह वह तरीका भी है जिसके अनुसार अविश्वासी दूसरों के साथ व्यवहार करते हैं। यदि कोई ईसाई दूसरों के साथ इस तरह से व्यवहार करता है, तो वो उसी रास्ते पर चल रहा है जिस पर एक अविश्वासी चलता है, वह प्रभु में विश्वासी कहलाने योग्य नहीं हैं और वो जो कर रहा है वह परमेश्वर के इरादे के अनुसार नहीं है। प्रभु में विश्वासियों के तौर पर, हमें उसकी शिक्षाओं को अभ्यास में लाना चाहिए। हमें दूसरों से अपने समान प्यार करना चाहिए। जब तक कि किसी की मानवता अच्छी है, वह वास्तव में परमेश्वर में विश्वास करता है और सत्य से प्यार करता है, तो वो हमारी प्राथमिकताओं, मिजाज़, चरित्र के साथ संगत हो या ना हो, चाहे हम उसे पसंद करते हों या न करते हों और भले ही वे साधारण भाई बहन हों या कलीसिया के अगुआ हों, हमें ईमानदारी से और निष्पक्षता से उनके साथ व्यवहार करना चाहिए। हमें उनके प्रति सहिष्णुता, धैर्य और प्यार दिखाना चाहिए। हमें धोखाधड़ी और भेदभाव नहीं करना चाहिए। केवल ऐसा करके ही हम परमेश्वर की मंशा के अनुसार होंगे।

2. दूसरों की कमियों और प्रकट की गयी भ्रष्टता को उचित ढंग से सम्बोधित करें। मनमाने ढंग से दूसरों को परिभाषित और उनकी आलोचना ना करें।

यीशु ने कहा: "दोष मत लगाओ कि तुम पर भी दोष न लगाया जाए। क्योंकि जिस प्रकार तुम दोष लगाते हो, उसी प्रकार तुम पर भी दोष लगाया जाएगा; और जिस नाप से तुम नापते हो, उसी नाप से तुम्हारे लिये भी नापा जाएगा" (मत्ती 7:1–2)। प्रभु की शिक्षाओं ने मुझे यह समझने में मदद की है कि हम सभी वो लोग हैं जो शैतान द्वारा भ्रष्ट किये गए हैं। हमारा भ्रष्ट स्वभाव एक जैसा है। अगर दूसरे एक घमंडी, दम्भी, स्वार्थी और घृणित शैतानी स्वभाव प्रकट करते हैं, तो हम भी वही स्वभाव प्रकट कर सकते हैं। हमारे अंदर दूसरों के समान ही कमियाँ हैं। हम दूसरों की तुलना में बेहतर नहीं हैं। अगर हम दूसरों की कमियों और भ्रष्टाचार के कारण उनकी आलोचना करते हैं और उन्हें परिभाषित करते हैं, तो हम वास्तव में घमंडी हैं और स्वयं के बारे में हमें बहुत कम ज्ञान है! इसलिए, दूसरे चाहे जो भ्रष्टाचार और अपराध प्रकट करें उसके बावजूद, हमें उन्हें सही तरीके से संबोधित करना होगा और हमें मनमाने ढंग से उनकी आलोचना और उन्हें परिभाषित नहीं करना चाहिए। पापियों को संबोधित करते समय यीशु का जो रवैया था, जैसा कि बाइबल में लिखा है, उसे याद रखें: फ़रीसी एक व्यभिचारी महिला को पकड़ कर यीशु के सामने लाये। उन्होंने यीशु से पूछा कि इस महिला के साथ कैसा व्यवहार किया जाना चाहिए। उस समय के कानूनों के मुताबिक, महिला की पत्थर मार-मार कर हत्या कर देनी चाहिए थी। हालाँकि, यीशु ने उसे उसके पापों के लिए दोषी नहीं ठहराया। उसने बस उस महिला को भविष्य में पाप ना करने के लिए कहा। (यूहन्ना 8: 3-11 देखें।) इस अवतरण से, हम देख सकते हैं कि यीशु उस दर्द और असहायता को समझता है जिसे वे लोग महसूस करते हैं जिन्हें शैतान द्वारा भ्रष्ट किया गया है और जो पाप में रहते हैं। उसने मनुष्य की कमज़ोरी के प्रति करुणा महसूस की। जब हमने भ्रष्टाचार प्रकट किया है या अपराध किए हैं, तो जब तक हम वास्तव में पश्चाताप करते हैं, परमेश्वर हमें पश्चाताप करने और बदलने के लिए पर्याप्त समय देगा। हमें यीशु के उदाहरण का भी पालन करना चाहिए और अन्य लोगों की कमियों और प्रकट की गयी भ्रष्टता को सही तरीके से संबोधित करना चाहिए। हमें विकास के परिप्रेक्ष्य के माध्यम से दूसरों को देखना चाहिए। यह अन्य लोगों से निपटने का एक सिद्धांत भी है जो ईसाइयों के जीवन में होना चाहिए। यदि अन्य लोगों के लिए हमारी मांगें कठोर हैं, हम बाल की खाल निकालते हैं और मनमाने ढंग से लोगों की आलोचना तक करते हैं, यदि हम लोगों को परिभाषित करते हैं और उनकी कमियों को खोजने के बाद यह निष्कर्ष निकालते हैं कि वे निकम्मे हैं, तो यह दूसरों के साथ निपटने के लिए एक अहंकारी और दम्भी भ्रष्ट स्वभाव का उपयोग करने का एक उदाहरण है। यदि आप ऐसा करते हैं, तो यह परमेश्वर के इरादे के अनुसार नहीं है और आप दूसरों के साथ सामान्य संबंध बिल्कुल नहीं रख पाएंगे।

अब मैं अपने कुछ अनुभव आप सभी को बताती हूँ। हमारी कलीसिया में, एक बहन है जो अपने अविश्वासी पति के कारण समय पर सभाओं में भाग लेने में असमर्थ है। मैंने कई बार इस बहन से बात की थी, लेकिन वह अभी भी नकारात्मकता और कमजोरी में जी रही थी। मैं इस लेकर बहुत नाराज थी और इसलिए मैंने उसे ऐसे व्यक्ति के रूप में परिभाषित किया जो वास्तव में परमेश्वर में विश्वास नहीं करती थी। मैं अब और उसकी मदद या सहायता नहीं करना चाहती थी। बाद में, मैंने बाइबल में लिखे ये वचन पढ़े: "खानेवाला न–खानेवाले को तुच्छ न जाने, और न–खानेवाला खानेवाले पर दोष न लगाए; क्योंकि परमेश्‍वर ने उसे ग्रहण किया है। तू कौन है जो दूसरे के सेवक पर दोष लगाता है? उसका स्थिर रहना या गिर जाना उसके स्वामी ही से सम्बन्ध रखता है; वरन् वह स्थिर ही कर दिया जाएगा, क्योंकि प्रभु उसे स्थिर रख सकता है" (रोमियों 14:3-4)। मुझे बहुत शर्मिंदगी महसूस हुयी। मैंने उन समयों के बारे में सोचा जब मैं पराजित, नकारात्मक और कमज़ोर महसूस करती थी। परमेश्वर ने मेरे भाई-बहनों को भावनात्मक रूप से छुआ ताकि वे आगे आएं और परमेश्वर के वचनों को कई बार पढ़कर मुझे सुनाएं। वे मेरी सहायता करने और मुझे सहारा देने के लिए मुझसे बातचीत करते और अपने अनुभव मुझे बताया करते। केवल परमेश्वर के वचनों के मार्गदर्शन से ही मैं दृढ़ता से खड़ी हो पायी। मेरे पास कुछ भी ऐसा नहीं था जिस पर मैं गर्व कर सकती थी। अब, यह बहन अपने पति की बाधाओं के कारण समय पर सभाओं में भाग लेने में असमर्थ थी। मुझे एक प्यार करने वाले दिल के साथ उसकी मदद करनी चाहिए थी, फिर भी मैं इस बहन के जीवन के बारे में चिंतित नहीं थी। मैंने उसे टालने की कोशिश भी की और उसे ऐसे व्यक्ति के रूप में परिभाषित किया जो वास्तव में परमेश्वर में विश्वास नहीं करती थी। जब मैंने खुद पर नज़र डाली, तो मुझे लगा कि मैं बहुत अहंकारी थी। मैंने इस बहन के साथ प्यार भरे दिल या धैर्य से व्यवहार नहीं किया। मेरे पास ऐसा कुछ भी नहीं था जो कि परमेश्वर के इरादों के अनुसार था। एक बार जब मैं यह समझ गयी, फिर मैंने परमेश्वर के सामने अपने पाप स्वीकार किए और पश्चाताप किया: मैं इस बहन की मदद करने और सहारा देने के लिए तैयार थी। इसके बाद, मैंने इस बहन को प्यार भरे दिल के साथ परमेश्वर के वचन सुनाये और मैंने अपने कुछ अनुभव और समझ को भी साझा किया। उसके साथ कुछ बार संवाद करने के बाद, वह अब अपने पति के नियंत्रण के अधीन नहीं थी और उसकी स्थितियों में धीरे-धीरे सुधार हुआ। इस अनुभव से मैंने जो सीखा वह यह है कि किसी भी भाई या बहन के अंदर चाहे जो भी कमियां और कमज़ोरियाँ हों, या वे जो भी भ्रष्टाचार प्रकट करें, जब तक कि वे वास्तव में परमेश्वर पर विश्वास करते हैं और जब वे गलती करते हैं तो परमेश्वर के सामने पश्चाताप कर सकते हैं, परमेश्वर उन्हें बदलने का एक अवसर देगा। यही कारण है कि हमें दूसरों की प्यार भरे दिल से मदद करनी चाहिए, उन्हें माफ करना चाहिए और प्रत्येक व्यक्ति के साथ परमेश्वर की अपेक्षाओं के अनुसार व्यवहार करना चाहिए। हमें बिल्कुल भी मनमाने ढंग से अन्य लोगों को परिभाषित नहीं करना चाहिए और उनकी आलोचना नहीं करनी चाहिए। इसी प्रकार से एक व्यक्ति लोगों के साथ समान रूप से और परमेश्वर की मंशा के अनुसार व्यवहार करता है।

3. आपको अन्य लोगों को कम या ज़्यादा करके नहीं आँकना चाहिए। दूसरों की खूबियों से सीखें और अपनी कमियों को दूर करें।

बाइबल कहती है: "विरोध या झूठी बड़ाई के लिये कुछ न करो, पर दीनता से एक दूसरे को अपने से अच्छा समझो" (फिलिप्पियों 2:3)। परमेश्वर ने हममें से प्रत्येक को अलग-अलग क्षमता, प्रतिभा और खूबियां दी है। इस कारण से, अपने भाइयों और बहनों के साथ बातचीत करते समय हमें विनम्र दिल रखना चाहिए और हमें दूसरों की खूबियों और कमियों को सही ढंग से देखना चाहिए। हमें दूसरों को कम या ज़्यादा करके नहीं आँकना चाहिए। हमें दूसरों की खूबियों को ग्रहण करना चाहिए ताकि हम अपनी कमियों को दूर कर सकें। यदि हम अपनी खूबियों, क्षमता और प्रतिभा के कारण दूसरों को नीची दृष्टि से देखते हैं और असीम ढंग से अपनी ताकत बढ़ाते हैं, जिसके माध्यम से हम दिखावा करते हैं और डींगे हाँकते हैं, साथ ही दूसरों की आलोचना करते हैं, नीचा दिखाते हैं और नुकसान पहुंचाते हैं, तो हम अपने अहंकारी और दम्भी भ्रष्ट स्वभाव द्वारा इस प्रकार से नियंत्रित किये जा रहे हैं। एक ईसाई को इस तरह का जीवन नहीं जीना चाहिए। उदाहरण के लिए, पहले, मैं हमेशा सोचती थी कि मेरी खुद की क्षमता अपने साथ काम कर रही एक बहन की तुलना में बेहतर थी, इसलिए मैं उसे नीची दृष्टि से देखती थी। एकसाथ हमारे काम के दौरान, मैं जाने-अनजाने में दिखावा करती थी और मेरा दिल अपने लिए घमंड से भरा हुआ था। मेरे भ्रष्ट स्वभाव के कारण परमेश्वर को मुझसे घृणा हो गयी और इसके कारण परमेश्वर ने मेरी ओर से अपना मुँह मोड़ लिया। मेरी आत्मा अँधेरी और निराशापूर्ण हो गई। मेरे काम में कई स्पष्ट समस्याएं थीं जिन्हें मैं खोज पाने में असमर्थ थी, जबकि इस बहन का काम धीरे-धीरे बेहतर होता चला गया। मैंने उस बारे में सोचा जो यीशु ने कहा था: "जो कोई अपने आप को बड़ा बनाएगा, वह छोटा किया जाएगा: और जो कोई अपने आपको छोटा बनाएगा, वह बड़ा किया जाएगा" (मत्ती 23:12)। इसी समय मैंने देखा कि मैं कितनी अहंकारी थी। मैं खुद से अवगत नहीं थी। असल में, यह पवित्र आत्मा के काम के कारण है कि मेरे काम ने कुछ परिणाम उत्पन्न किये थे या मैं कुछ समस्याओं को खोजने में सक्षम थी। हालाँकि, मैंने अभी भी परमेश्वर का सम्मान चुराया था और मैं बेहद आत्मतुष्ट थी और अपने खुद के अहंकार की प्रशंसा करती थी। मैं अपने साथी भाइयों और बहनों को नीची दृष्टि से देखती थी। हकीकत में, मैं बहुत ही अविवेकी थी! साथ ही, मुझे पता था कि मुझे खुद को कैसे जाने देना है यह सीखने की जरूरत है। मुझे अपनी कमियों को दूर करने के लिए उस बहन की खूबियों को खुले दिमाग से आत्मसात करना था। केवल अगर मैंने ऐसा किया तभी परमेश्वर प्रसन्न होगा और मेरा जीवन लगातार बढ़ेगा। नतीजतन, मैंने ऐसा करना शुरू कर दिया। जब ऐसी समस्याएं आतीं जिन्हें मैं समझ नहीं पाती थी, तो मैं उस बहन से उसकी सलाह माँगती। अगर मैं मुद्दों का सामना करती, तो मैं उनके साथ उन पर चर्चा करती। तब मैंने पाया कि वास्तव में उसमें ऐसी कई खूबियां थीं जिनका मुझमें अभाव था। मेरे दिल ने बहुत अपमानित महसूस किया। मैं यह भी समझ गयी कि परमेश्वर ने ऐसी व्यवस्था की थी कि मैं इस बहन के साथ काम करूँ क्योंकि वह चाहता था कि मैं अपनी कमियों को दूर करूँ। वह चाहता था कि जो काम उसने हमें सौंपा था उसको करने के लिए हम सामंजस्यपूर्ण रूप से सहयोग करें। धीरे-धीरे, इस बहन के साथ मेरा रिश्ता सामान्य हो गया और मुझे एक बार फिर पवित्र आत्मा का काम प्राप्त हुआ।

4. जब आप यह पाते हैं कि अन्य लोग ऐसी चीज़ें करते हैं जो आपके विचारों से मेल नहीं खाती हैं, तो दूसरे व्यक्ति पर अपनी नज़रें न गड़ायें। इसके बजाय, आपको पहले खुद को पहचानना चहिये और सत्य का अभ्यास करना चाहिये।

यीशु ने कहा: "तू क्यों अपने भाई की आँख के तिनके को देखता है, और अपनी आँख का लट्ठा तुझे नहीं सूझता? जब तेरी ही आँख में लट्ठा है, तो तू अपने भाई से कैसे कह सकता है, 'ला मैं तेरी आँख से तिनका निकाल दूँ?' हे कपटी, पहले अपनी आँख में से लट्ठा निकाल ले, तब तू अपने भाई की आँख का तिनका भली भाँति देखकर निकाल सकेगा" (मत्ती 7:3–5)। जब हम दूसरों के साथ बातचीत करते हैं, तो कुछ टकराव और पूर्वाग्रह होना निश्चित है। इन क्षणों पर, हमें इस बात पर ध्यान नहीं देना चाहिए कि दूसरा पक्ष क्या गलत कर रहा है और हमेशा यह नहीं मानना चाहिए कि दूसरे पक्ष की ही गलती है। इसके बजाय, हमें परमेश्वर के सामने आना और परमेश्वर के वचन के भीतर सत्य को तलाशना सीखना चाहिए ताकि हम यह पता लगा सकें कि हमारी अपनी समस्याएं कहाँ हैं। एक बार जब हम परमेश्वर के इरादे को समझ लेते हैं और अपने भ्रष्ट स्वभाव की समझ पा लेते हैं, तो हम खुद को अन्य लोगों की जगह रख कर देख पाएंगे और चीजों को उनके नज़रिए से समझ पाएंगे। हम दूसरों को समझ पायेंगे, उनके साथ सहानुभूति रखने और सहिष्णु होने में सक्षम होंगे। इस बिंदु पर, दूसरों के लिए हमारा पूर्वाग्रह स्वाभाविक रूप से कम हो जाएगा।

इस पहलू के संबंध में मुझे कुछ गहरे अनुभव हुए हैं। मुझे याद है कि एक बहन जिसके साथ मैंने काम किया था, उसने कई बार यह इशारा किया कि कलीसिया के काम के संबंध में मैंने अपना दायित्व नहीं निभाया था। हालाँकि, न केवल मैं इसे परमेश्वर से प्राप्त करने में असमर्थ थी, वास्तव में, मुझे यह भी संदेह था कि यह बहन जान-बूझकर मुझमें मीन-मेख निकाल रही थी और मेरी जिंदगी मुश्किल बना रही थी। मेरे दिल ने इस बहन की तरफ पूर्वाग्रह पैदा करना शुरू कर दिया और अब मैं इस बहन के साथ सेवा नहीं करना चाहती थी। जब मैंने परमेश्वर के वचन को पढ़ा और परमेश्वर की मंशा को ढूंढा, तो मुझे समझ में आया कि मेरा स्वयं का अहंकारी और दम्भी शैतानी स्वभाव मुझे नियंत्रित कर रहा था और मुझे इस बहन के सुझावों को स्वीकारने नहीं दे रहा था। इससे मुझे उसके बारे में संदेह भी हुआ। इसी कारण इस बहन के साथ सामान्य बातचीत करने में मैं असमर्थ हो गयी। साथ ही, मुझे पता था कि जिन लोगों, घटनाओं और चीजों का मैं हर रोज सामना करती थी, सभी परमेश्वर द्वारा निर्देशित और व्यवस्थित थे। यह परमेश्वर था जो सावधानी से इन चीजों को मुझे बदलने और बचाने के लिए व्यवस्थित कर रहा था, न कि वह बहन जानबूझकर मेरे लिए चीजों को मुश्किल बनाना चाहती थी। मुझे परमेश्वर को समर्पण करना चाहिए, खुद को जाने देना और उस बहन के सही सुझावों को स्वीकार करना सीखना चाहिए। इसके बाद, मैं परमेश्वर के सामने गयी और खुद पर विचार किया। बहन के सुझावों से, मैं देख सकती थी कि वास्तव में मैं कलीसिया के काम के संबंध में अपनी जिम्मेदारियों को नहीं उठा रही थी। जो भी अगुवा मेरे लिए करने की व्यवस्था करते थे, मैं वो करती थी, फिर भी मैंने कभी यह नहीं सोचा कि मैं कलीसिया के काम को और भी बेहतर कैसे कर सकती हूँ। एक बार जब मैं परमेश्वर के इरादे को समझ गयी, तो मैं चीजों को परमेश्वर की अपेक्षाओं के अनुरूप करने लगी। मैंने सक्रिय रूप से और खुले दिल से इस बहन के सामने अपना भ्रष्टाचार प्रकट किया और मैंने परमेश्वर से भी मुझे और अधिक ज़िम्मेदारियाँ देने को कहा। जब मैंने परिस्थितियों का सामना किया, तो मैंने इस बारे में और सोचा कि मैं कलीसिया को कैसे लाभ पहुंचा सकती हूँ। जब मैं चीजों को इस तरह से अभ्यास में लायी, तो एक समय जो गलतफहमी इस बहन के साथ हुआ करती थी वो खत्म हो गयी। हम आध्यात्मिक रूप से जुड़ गये और जो सद्भावना पहले हमारे बीच थी, वो एक बार फिर बहाल हो गयी।

अभ्यास के चार सिद्धांत वे चीजें थीं जिन्हें मैंने अपने अनुभवों से सीखा था। मैंने सचमुच अनुभव किया कि एक ईसाई के जीवन में परमेश्वर का वचन मार्ग दिखाने वाला प्रकाश है। यह हमारे पथ के लिए दिशासूचक है। परमेश्वर के वचन के मार्गदर्शन के बिना, हमारे पास चलने को कोई रास्ता नहीं होगा। हमें बस इतना करना है कि हम परमेश्वर की शिक्षाओं को अभ्यास में लायें और सभी के साथ समान रूप से व्यवहार करें। केवल तभी हम वास्तविक मनुष्य के समान जीवन जीने में सक्षम होंगे, दूसरों के साथ अच्छी तरह से मिल-जुलकर रह पाएंगे, हमारे आस-पास के लोगों को लाभ पाने देंगे, साथ ही, हम परमेश्वर को संतुष्ट करने और हमें सराहने का कारण देंगे।

परमेश्वर के मार्गदर्शन के लिए उसका धन्यवाद। परमेश्वर की महिमा बनी रहे!

संपादक की टिप्पणी: परमेश्वर के प्रबोधन और मार्गदर्शन के कारण, जब तक कि इस निबंध में वर्णित चार सिद्धांतों का कोई अभ्यास करता है, तो मानव संबंधों के विषय में जिन समस्याओं का सामना उसे करना पड़ता है, वे जादुई रूप से गायब हो जाएंगीं। कल्पना कीजिए कि हमारे जीवन कितने बेहतर होंगे यदि हम ईसाईयों के रूप में परमेश्वर के वचनों को अभ्यास में लाने और दूसरों के साथ सामंजस्यपूर्ण ढंग से जीने में सक्षम हों जाएँ! इस तरह का जीवन कोई कहाँ पा सकता है? संपादक की सलाह है कि आप इस ईसाई भजन को सुनें: "परमेश्वर का प्यार हमें एक दूसरे के करीब लाता है"। इस भजन को सुनने के बाद, आपको आपका जवाब मिल जाएगा।

सम्बंधित मीडिया